मंगलवार, 17 जुलाई 2018

ओस्लो नार्वे से प्रकाशित परिचय का अंक 1 -सन 1983 -Suresh Chandra Shukla

ओस्लो नार्वे से प्रकाशित 'परिचय' का अंक 1 -सन 1983 
- सम्पादक -सुरेशचंद्र शुक्ल 
इस अंक में स्थानीय भारतीय राजनैतिज्ञ अमलेंदु गहा का साक्षात्कार और मजदूर नेता मन्नालाल शुक्ल पर लेख था उनके 16  फरवरी 1983  पर निधन होने पर.




































'परिचय' हिन्दी का सम्पादन -सेवा का मौका मुझे पांच साल (1980-1985) मिला। -सुरेशचंद्र शुक्ल Suresh Chandra Shukla


 'परिचय' हिन्दी पत्रिका  का सम्पादन पांच साल (1980-1985) किया। -सुरेशचंद्र शुक्ल 
ओस्लो, नार्वे में हिन्दी की पहली पत्रिका का प्रकाशन 1978 में शुरू हुआ.
इसका प्रकाशन भारतीय कल्याण परिषद (इंडियन वेलफेयर सोसाइटी) करती थी जो उस समय ओस्लो, नार्वे में भारतीयों की एकमात्र संस्था थी.
अधिकाँश पत्रिका हस्तलिखित होती थी. इस पत्रिका की चर्चा धर्मवीर भारती जी ने धर्मयुग के प्रथम पृष्ठ पर मेरे नाम के साथ की थी. कादम्बिनी में इसके सम्पादक के दो बार साक्षात्कार पत्रिका के कवर पेज के पृष्ठ के साथ छपे थे.
आइये अवलोकन करते हैं 'परिचय' पत्रिका के 1983 में छपे अंक का कवर पेज, सम्पादकीय और पेज दो (विषय सूची).
यह पत्रिका 'परिचय' हिन्दी, पंजाबी (गुरुमुखी) और अंगरेजी में संयुक्त रूप से छपती थी.
इस अंक में नार्वे के सुरेशचंद्र शुक्ल (बसंत के अंकुर का दूसरा भाग और एक टुकड़ा बादल और जितेन्द्र कुमार बधवार की और इंसानियत लटक गयी )कहानियाँ और दो साक्षात्कार स्थानीय भारतीय राजनीतिज्ञों अवतार सिंह और अमलेंदु गुहा के थे. सम्पादकीय भी प्रभावी था.






































मैं जन साधारण हूँ - सुरेशचन्द्र शुक्ल (यह कविता ओस्लो, नार्वे से प्रकाशित पत्रिका परिचय में 1985 में छपी थी.

 मैं जन साधारण हूँ - सुरेशचन्द्र शुक्ल 
 (यह कविता ओस्लो, नार्वे से प्रकाशित पत्रिका परिचय में 1985 में छपी थी.




Add caption



































बंधुवर, मेरी कविता 'जान साधारण' का आनन्द लीजिये जो ओस्लो, नार्वे से प्रकाशित पहली हिंदी पत्रिका परिचय (1978  -1993) में सन 1885 में छपी थी।

सोमवार, 16 जुलाई 2018

दस्तक काव्यसंग्रह 'नंगे पांवों का सुख' -सुरेशचंद्र शुक्ल से दस्तक कविता प्रस्तुत है. -Suresh Chandra Shukla

बंधुवर, मेरे काव्यसंग्रह 'नंगे पांवों का सुख' -सुरेशचंद्र शुक्ल से दस्तक कविता प्रस्तुत है. इस संग्रह में भूमिका राजेंद्र अवस्थी जी ने लिखी थी और कवर पेज बनाया था सत्य सेवक मुकर्जी जी ने.
दस्तक ('नंगे पांवों का सुख' से साभार)
सुरेशचंद्र शुक्ल 


रविवार, 15 जुलाई 2018

भारतीय आर्थिक स्थिति गिरीराज किशोर की वाल से 15.07.18

राहुल पर मीडिया के हंगामे के मतलब समझते है? अपने पाप छुपाना..इस हफ्ते इकॉनमी पर कुछ महत्वपूर्ण डेटा आये है..इकॉनमी का जनाज़ा "मोदी वाले श्मशान" पहुंच चुका है..किसी भी चैनल ने इसपर बाते नही की NDTV के अलावा..पढिये "इकॉनमी का जनाज़ा" 2018 में अब तक का..

● फ्रांस की जीडीपी है $ 2.58 ट्रिलियन और भारत की $ 2.59 ट्रिलियन.. क्या फर्क है? $ 1-2 क्रूड का भाव बढ़ते ही भारत नीचे..जीडीपी का मतलब तो समझते है क्या मोदी?

● फ्रांस की प्रति व्यक्ति आय है $ 43760 और भारत की $ 2100..किसे बेवकूफ बना रहे है मोदी?

● इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन केवल 3.2%..कृषि 2% ग्रोथ..बात करते है विकास की?

● मैन्युफैक्चरिंग, IIP इंडेक्स का 77.63% होता है..उसकी ग्रोथ केवल 2.8%..मेक इन इंडिया का झूठ !! यानी 77.63% इकॉनमी में कुछ नही हो रहा है..

● पावर की ग्रोथ एक साल पहले 8.3% थी जो अब 4.2% है..मतलब इंडस्ट्री को पावर नही चाहिए..यानी प्रोडक्शन बन्द है..

● FMCG की हालत सबसे खराब..9.7% ग्रोथ से सीधा 2.6%..यानी हमारी खरीदने की क्षमता घट गई..महंगाई ने मजबूर कर दिया..

● अप्रैल-जून 18 में निवेश केवल 2.1 लाख करोड़ है..एक साल पहले की तुलना में ये 21% कम है और तिमाही की तुलना में 38% कम..निवेश बिना इकॉनमी कैसे बढ़ेगी मोदी?

● एक्स एविएशन इन्वेस्टमेंट केवल 77 हजार करोड़ है जो कि 2004 से भी नीचे है..यानी 14 सालो का सबसे कम इन्वेस्टमेंट..

● बिजली में UPA के वक्त हर तिमाही में 1-2 लाख करोड़ निवेश होता था..2018 की पहली तिमाही में अब बस 40 हजार करोड़..

● रोड प्रोजेक्ट का बहुत बुरा हाल है..केवल 0.66% प्रोजेक्ट चल रहे है..कांग्रेस के वक्त ये आंकड़ा 6% का था..मतलब रोड नही बन रहे..

● 4237 लिस्टेड कम्पनियो का मुनाफा पिछले साल की तुलना में 80% गिर चुका है..शेयर बाजार उच्चतम स्तर पर..लेकिन 40% कम्पनियों के भाव 52 Week Low पर है..

● व्यापार घाटा $ 16.60 बिलियन पहुंच चुका है जो 5 सालो का उच्चतम स्तर है..करेंट एकाउंट और फिस्कल डेफिसिट की हालत आप खुद समझ सकते है..

● नवंबर 17- मई 18 के बीच 1 करोड़ नौकरीया घट चुकी है..सरकार नौकरी के आंकड़े देना बंद कर चुकी है..

ये डेटा पिछले सोमवार से बुधवार के बीच आये है..और सोमवार से ही हिन्दू-मुस्लिम चालू है..हिन्दू-मुस्लिम से दूर रहिये..थोड़ा सा वक्त घर के किचन में गुजारिये..पूरी इकॉनमी समझ जाएंगे..

#इकॉनमी
#krishnaniyer
***
#vss

बुधवार, 11 जुलाई 2018

विश्व जनसँख्या दिवस पर हमारे नेता शपथ लें कि उनके देशवासी भूख से नहीं मरेंगे और इसके लिए उपाय करेंगे। - सुरेशचंद्र शुक्ल

 विश्व जनसँख्या दिवस पर हमारे नेता शपथ लें कि उनके देशवासी  भूख से नहीं मरेंगे और इसके लिए उपाय करेंगे। - सुरेशचंद्र शुक्ल 
भारतीय नेता देश में गरीबी कम करने के लिए कोई उपाय नहीं कर रहे, ज्यादातर खुद बयानों में अपने को सर्वश्रेष्ठ बता रहे हैं.
भारत सबसे गरीब देशों में 19वें स्थान पर. प्रति व्यक्ति  में अब भी भारत फ्रांस के मुकाबले करीब 20 गुना पीछे है। 

मंगलवार, 10 जुलाई 2018

Congress, UP, India राजनीति में योग्य आयें इसके लिए कांग्रेस ने प्रवक्ता बनने के लिए कराई परीक्षा।

उत्तर प्रदेश भारत में, राजनीति में योग्य आयें इसके लिए कांग्रेस ने प्रवक्ता बनने के  लिए कराई परीक्षा।
निम्नलिखित सवाल पूछे गए:
कांग्रेस प्रवक्ता की नियुक्ति के लिए पूछे गए ये सवाल:

1. उत्तर प्रदेश में कितने मंडल, जिले एवं और ब्लॉक हैं?
2. उत्तर प्रदेश में लोकसभा की कितनी आरक्षित सीटें हैं?
3. 2004 एवं 2009 में कांग्रेस कितनी सीटों पर जीती थी?
4. लोकसभा 2014 एवं 2017 विधानसभा में कांग्रेस को कितने प्रतिशत मिले हैं?
5. उत्तर प्रदेश में कितनी लोकसभा सीटें और विधानसभा सीटें हैं?
6.उत्तर प्रदेश में एक लोकसभा सीट में कितनी विधानसभा सीटें आती हैं?
7. किन लोकसभा सीटों पर मानक से कम या ज्यादा सीटें हैं?
8. प्रवक्ता का कार्य क्या होता है?
9. आप प्रवक्ता क्यों बनना चाहते हैं?
10. मोदी सरकार की असफलता के प्रमुख बिंदु क्या-क्या हैं?
11. योगी सरकार की असफलता के प्रमुख बिंदु क्या हैं?
12. मनमोहन सिंह सरकार की उपलब्धियां क्या-क्या थीं?
13.आज समाचार पत्र में तीन प्रमुख खबरें क्या हैं? जिन पर कांग्रेस प्रवक्ता बयान जारी कर सकें।
14. प्रमुख हिंदी/अंग्रेजी एवं उर्दू अखबार तथा चैनलों के नाम।