शुक्रवार, 22 सितंबर 2017

प्रिय मित्रों/ प्रिय पाठकों  आज 22 सितम्बर, मेरे पुत्र अनुपम का जन्मदिन है. बहुत बहुत शुभकामनायें। -Suresh Chandra Shukla

प्रिय मित्रों/ प्रिय पाठकों नमस्कार- आदाब अर्ज- श्री असत श्री अकाल.
बहुत दिनों बाद पुनः लिख रहा हूँ. आज 22 सितम्बर को मेरे पुत्र अनुपम का जन्मदिन है. बहुत बहुत शुभकामनायें। मैं भारत साहित्यिक यात्रा पर आया हुआ हूँ. आज चेन्नई, भारत में हूँ. नुन्गम बाकम, मोहल्ले में श्री सतीश एवं निर्मला मौर्या जी के घर पर रुका हूँ. निर्मला मौर्या तमिल नाडू साहित्य अकादमी की अध्यक्ष हैं.  जो यहाँ का पुराना और केंद्र में स्थित क्षेत्र है.
मुझे तमिल भाषा का शब्द जो नमस्ते के स्थान पर प्रयोग करते हैं वानेकम और धन्यवाद के स्थान पर नंदरी कहते हैं.
सोहन बाबू तेलगू फिल्मों के मशहूर फिल्म कलाकार थे जिनकी विशाल पीले रंग की प्रतिमा यहाँ लगी हुई है.
चेन्नई एक फ़िल्मी नगर है जो मुंबई  के बाद सबसे अधिक मशहूर है.

चैन्नई विश्व का एक ऐसा शहर है जहाँ कला के अनेक रूप जन्मे और विकसित हुए जैसे मूर्तिकला, नृत्यकला, शास्त्रीय संगीत और लोक गीत मुख्य है।

रविवार, 3 सितंबर 2017

हालात खराब थे और बहुत तनाव था परन्तु जिस प्रकार कश्मीर प्रांत के लोगों ने स्नेह दिया वह कभी न भूलने वाला है. - सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक ' Suresh Chandra Shukla

एक साल हो गये श्रीनगर गये - सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक '
बायें से श्रीमती व श्री शिक्षा मंत्री से महाकवि कल्हण शारदा सम्मान प्राप्त करते हुए पिछले वर्ष 1 सितम्बर 2016 को श्रीनगर, भारत में. 
पिछले वर्ष श्रीनगर कश्मीर में कश्मीरी -हिंदी संगम द्वारा डॉ बिना बुड़की के नेतृत्व में जम्मू और कश्मीर के शिक्षामंत्री ने मुझे महाकवि कल्हण शारदा पुरस्कार से सम्मानित किया था.
एक साल पहले मैं जब साहित्यिक कार्यक्रम में श्रीनगर गया था. लोग वहां जाने से मना कर रहे थे. पर बेशक हालात खराब थे और बहुत तनाव था परन्तु जिस प्रकार कश्मीर वासियों ने स्नेह दिया वह कभी न भूलने वाला है.
डॉ बिना बुड़की जी को बहुत धन्यवाद आमंत्रण के लिए और आभार।
एक दीवार पर लिखा था 'इंडियन डॉग' तो मैंने तीन बार जाकर वहां से इंडियन हटा दिया। हर बार लोगों ने मना किया मिटाने पर और हमदर्दी दिखाई पर मुस्करा कर सबसे बचता हुआ कामयाब हुआ था.  जिसकी दीवार पर लिखा था उसे भी नहीं पसंद था पर वह भय के कारण नहीं मिटा रहा था.

शुक्रवार, 18 अगस्त 2017

मंगलवार, 15 अगस्त 2017

नार्वे में मनाया गया स्वाधीनता दिवस - suresh Chandra Shukla


 नार्वे में मनाया गया स्वाधीनता दिवस 


चित्र में बाएं से संगीता, निकीता और वेंके  
स्वतन्त्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनायें! चित्र 15 अगस्त 2017 का है. Photo from 2017. राजदूत महामहिम देबराज प्रधान जी ने ध्वजा रोहण किया, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का सन्देश पढ़ा और नार्वे में रहने वाले भारतीयों को बधाई देते हुए सभी को दूतावास में निसंकोच मिलने को कहा. राष्ट्रगान जन-मन गण अधिनायक जय हो, भारत माता की जय, वन्दे मातरम और जयहिंद के जयघोष से सारा वातावरण गूँज गया.
भारतीय राजदूत देबराज प्रधान प्रधानमंत्री का सन्देश देते हुए पंद्रह अगस्त 2017 को ओस्लो में 
जाने-माने संगीतकार दीपक चौधरी भी कार्यक्रम में सम्मिलित हुये 


बायें से श्रीमती चौधरी, एक संगीत प्रेमी, डॉ दीपक चौधरी, सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' और अमित श्रीवास्तव 
 


शनिवार, 12 अगस्त 2017

नवीन शुक्ल की बेटी श्रेया को बुंदेलखंड फिल्म असोसिएशन द्वारा सम्मानित किया गया.-Suresh Chandra Shukla. Oslo

 श्रेया सम्मानित 

झांसी, उत्तर प्रदेश के समाजसेवी इंजीनियर नवीन शुक्ल की बेटी श्रेया को बुंदेलखंड फिल्म असोसिएशन द्वारा सम्मानित किया गया. उन्हें यह सम्मान समाजसेवा के लिए मॉडलिंग के लिए दिया गया. हाल ही श्रेया ने  दिल्ली में आयोजित डेलीवुड मॉडलिंग प्रतियोगिता में दूसरा स्थान प्राप्त किया था.

गुरुवार, 27 जुलाई 2017

'इंदु सरकार को 'सुप्रीम कोर्ट ने इस फिल्म की रिलीज़ को मंजूरी दे दी-

आपातकाल के दौर पर आधारित हिन्दी फिल्म 'इंदु सरकार ' की रिलीज़ से जुड़े विवाद पर फैसला सुनाते हुए अब सुप्रीम कोर्ट ने इस फिल्म की रिलीज़ को मंजूरी दे दी है। दरअसल एक याचिकाकर्ता ने इस फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी। उसका कहना था कि इस फिल्म में गांधी परिवार की छवि को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई है। अदालत ने इस याचिका को खारिज कर दिया है।

किसी का राम नाम सत्य, किसी का राम है. अब राजनीति भी स्वार्थ की गुलाम है? -सुरेशचन्द्र शुक्ल A poem in Hindi by Suresh Chandra Shukla

 (एक सामयिक कविता राजनीति पर सुरेशचन्द्र शुक्ल A poem in Hindi by Suresh Chandra Shukla)
"सम्भावना और अवसरों को नकार, आदर्शो की राजनीति बदल आकार,
मौसमों का अपना मोह बरकरार, न जाने देश में किसकी बने सरकार.
चौखटों का अपना एक मुकाम है. अब न कहो कि जुगनू को जुकाम है.
क्या सत्ता आज जमीन जायजाद है? फ़ूट डालने पर कर रहा कोई गुमान है,
किसी का राम नाम सत्य, किसी का राम है. अब राजनीति भी स्वार्थ की गुलाम है?"
- शरद आलोक, ओस्लो, 28.07.17
श्री नितीश कुमार जी मुख्यमंत्री और सुशील मोदी जी उपमुख्यमंत्री, बहुत-बहुत बधाई।
Et dikt av meg på hindi om politikk i India. Ny valgt delstatasministere i Bihar i Inida: Nitish Kumar og Sushil Modi.