सोमवार, 16 अक्तूबर 2017

चेन्नई में सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' सम्मानित -Suresh Chandra Shukla

 चेन्नई में सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' सम्मानित

1-डॉ सुधा त्रिवेदी जी के महाविद्यालय में छात्राओं को विदेशों में हिन्दी की संभावनाओं पर वक्तव्य दिया।










2-चेन्नई में तमिलनाडू साहित्य अकादमी द्वारा डॉ निर्मला एस मौर्य की अध्यक्षता में मुझे सम्मानित लिया गया.








सुरेशचंद्र शुक्ल 'शरद आलोक' पर लुधिआना में डाक टिकट जारी -Suresh Chandra Shukla

सुरेशचंद्र शुक्ल 'शरद आलोक' पर लुधिआना में डाक टिकट जारी 














































लुधिआना में १ अक्टूबर 2017 को यशपाल बांगिया जी की पुस्तक 'अदब की खुशबू' का विमोचन और डाक टिकट जारी किये गये. १ अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय वरिष्ठ नागरिक दिवस पर यह कार्यक्रम संपन्न हुआ.
सौ वर्ष के बुजुर्गों के साथ सुरेशचंद्र शुक्ल 'शरद आलोक' और प्रोफेसर हरमहिन्दर सिंह बेदी के चित्र के साथ डाक टिकट जारी किये गये.

तीन दिवसीय साहित्यिक राष्ट्रीय संगोष्ठी जबलपुर, मध्य प्रदेश भारत में।-Suresh Chandra Shukla

 तीन दिवसीय साहित्यिक राष्ट्रीय संगोष्ठी 











































अखिल भारतीय साहित्य परिषद के अधिवेशन में 'साहित्य का सामर्थ्य' पर चर्चा हुई जबलपुर, मध्य प्रदेश भारत में।  श्रीधर पराड़कर और श्री प्रवीण आर्य बहुत सक्रिय कार्यकर्ता थे जो साहित्य सम्मेलन में  जमीनी सतह से कार्य कर रहे थे जो प्रेरणाप्रद था.
देश के कोने-कोने से साहित्यकार आये थे. गोवा की राज्यपाल डॉ मृदुला सिन्हा, उत्तर प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष श्री ह्रदय नारायण दीक्षित, प्रोफ़ेसर नन्दकिशोर पांडेय, प्रोफ़ेसर रामेश्वर मिश्र, सुश्री शेषरत्नम जी, डॉ विद्याविन्दु सिंह, डॉ विनोद बब्बर जी, करुणा पांडेय, डॉ महेश दिवाकर, डॉ मीणा कौल, प्रोफ़ेसर त्रिभुवन नाथ शुक्ल और अन्य थे.

शोभा यात्रा
कार्यक्रम के अंतिम दिन बहुत शानदार शोभा यात्रा निकली जिसमें विभिन्न झाँकियाँ सजी हुई थीं.  रानी लक्ष्मी बाई से लेकर भारत माता, घुड़सवार आदि काफी आकर्षक थे. मुझे भी घुड़सवारी का अवसर मिला।
यह कभी न भूलने वाला समय था.
चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, बाहर
 













बुधवार, 27 सितंबर 2017

तमिलनाडु साहित्य अकादमी द्वारा सुरेशचंद्र शुक्ल सम्मानित, अंत में कविगोष्ठी में कवियों ने कवितापाठ किया।

तमिलनाडु साहित्य अकादमी द्वारा सुरेशचंद्र शुक्ल सम्मानित, अंत में कविगोष्ठी में कवियों ने कवितापाठ किया।
कार्यकर्म की अध्यक्षता प्रोफ़ेसर निर्मला एस मौर्य ने किया और संचालन ईश्वर करूँ ने किया।
विदेशों में हिंदी और  परिचर्चा हुई।



शुक्रवार, 22 सितंबर 2017

प्रिय मित्रों/ प्रिय पाठकों  आज 22 सितम्बर, मेरे पुत्र अनुपम का जन्मदिन है. बहुत बहुत शुभकामनायें। -Suresh Chandra Shukla

प्रिय मित्रों/ प्रिय पाठकों नमस्कार- आदाब अर्ज- श्री असत श्री अकाल.
बहुत दिनों बाद पुनः लिख रहा हूँ. आज 22 सितम्बर को मेरे पुत्र अनुपम का जन्मदिन है. बहुत बहुत शुभकामनायें। मैं भारत साहित्यिक यात्रा पर आया हुआ हूँ. आज चेन्नई, भारत में हूँ. नुन्गम बाकम, मोहल्ले में श्री सतीश एवं निर्मला मौर्या जी के घर पर रुका हूँ. निर्मला मौर्या तमिल नाडू साहित्य अकादमी की अध्यक्ष हैं.  जो यहाँ का पुराना और केंद्र में स्थित क्षेत्र है.
मुझे तमिल भाषा का शब्द जो नमस्ते के स्थान पर प्रयोग करते हैं वानेकम और धन्यवाद के स्थान पर नंदरी कहते हैं.
सोहन बाबू तेलगू फिल्मों के मशहूर फिल्म कलाकार थे जिनकी विशाल पीले रंग की प्रतिमा यहाँ लगी हुई है.
चेन्नई एक फ़िल्मी नगर है जो मुंबई  के बाद सबसे अधिक मशहूर है.

चैन्नई विश्व का एक ऐसा शहर है जहाँ कला के अनेक रूप जन्मे और विकसित हुए जैसे मूर्तिकला, नृत्यकला, शास्त्रीय संगीत और लोक गीत मुख्य है।

रविवार, 3 सितंबर 2017

हालात खराब थे और बहुत तनाव था परन्तु जिस प्रकार कश्मीर प्रांत के लोगों ने स्नेह दिया वह कभी न भूलने वाला है. - सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक ' Suresh Chandra Shukla

एक साल हो गये श्रीनगर गये - सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक '
बायें से श्रीमती व श्री शिक्षा मंत्री से महाकवि कल्हण शारदा सम्मान प्राप्त करते हुए पिछले वर्ष 1 सितम्बर 2016 को श्रीनगर, भारत में. 
पिछले वर्ष श्रीनगर कश्मीर में कश्मीरी -हिंदी संगम द्वारा डॉ बिना बुड़की के नेतृत्व में जम्मू और कश्मीर के शिक्षामंत्री ने मुझे महाकवि कल्हण शारदा पुरस्कार से सम्मानित किया था.
एक साल पहले मैं जब साहित्यिक कार्यक्रम में श्रीनगर गया था. लोग वहां जाने से मना कर रहे थे. पर बेशक हालात खराब थे और बहुत तनाव था परन्तु जिस प्रकार कश्मीर वासियों ने स्नेह दिया वह कभी न भूलने वाला है.
डॉ बिना बुड़की जी को बहुत धन्यवाद आमंत्रण के लिए और आभार।
एक दीवार पर लिखा था 'इंडियन डॉग' तो मैंने तीन बार जाकर वहां से इंडियन हटा दिया। हर बार लोगों ने मना किया मिटाने पर और हमदर्दी दिखाई पर मुस्करा कर सबसे बचता हुआ कामयाब हुआ था.  जिसकी दीवार पर लिखा था उसे भी नहीं पसंद था पर वह भय के कारण नहीं मिटा रहा था.

शुक्रवार, 18 अगस्त 2017