शनिवार, 26 दिसंबर 2015

Speil er et flerkulturelt tidsskrift fra Norge. स्पाइल-दर्पण पत्रिका बहु-सांस्कृतिक पत्रिका है.-Suresh Chandra Shukla

स्पाइल-दर्पण पत्रिका
शान्ति नोबेल पुरस्कार विजेता २०१५ को स्पाइल भेंट करते हुए.
स्पाइल-दर्पण पत्रिका विदेशों (नार्वे) में  छपने वाली एक स्तरीय बहु-सांस्कृतिक पत्रिका है. यह एक मान्यताप्राप्त अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका है. यह गर्व की बात है की इस पर विश्वविदयालय में शोध हो चुका है. स्पाइल-पत्रिका अनेक भारतीय और स्कैंडिनेवियाई लेखकों द्वारा पढ़ी जाती है. अनेक लेखकों की आरंभिक कहानियाँ स्पाइल-दर्पण में छपी हैं. भारत और नार्वे दोनों देशों का सहयोग और प्रशंसा ने इसे गौरवान्वित किया है. अनेक देशों के लेखकों और राजनैतिज्ञों की शुभकामनाओं की प्राप्ति के कारण यह कई मामलों में अनूठी हो गयी है. हम नये लेखकों को प्रोत्साहन देते हैं जिनकी रचनाओं ने स्पाइल-दर्पण में चार चाँद लगाये हैं. 
-सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक', सम्पादक 

गुरुवार, 17 दिसंबर 2015

डॉ रामदरश मिश्रा जी को साहित्य अकादमी पुरस्कार के लिए हार्दिक बधाई। -Suresh Chandra Shukla

Et gammel bilde sammen med indiske forfattere i Manchaster, i UK.

डॉ रामदरश मिश्रा जी को 
साहित्य अकादमी पुरस्कार के लिए हार्दिक बधाई। 


बंधुवर नमस्कार! रामदरश जी के साथ यू के में एक सप्ताह बिताया था. कवितायें सुनी और सुनायी थीं और टाफियां खिलाई थीं, जिसका जिक्र उन्होंने अपने संस्मरण में किया था. चित्र में बाएं से डॉ रणजीत सुमरा, विक्रम सिंह जगदीश चतुर्वेदी, बालकवि बैरागी, सुरेशचन्द्र शुक्ल, लक्ष्मीमल सिंघवी और राम पाण्डेय मैनचेस्टर यू के में सुमरा जी के निवास पर.

शनिवार, 12 दिसंबर 2015

लेखक गोष्ठी:आज शनिवार १२ दिसंबर को शाम पांच बजे Forfatterkafe i dag-Suresh Chandra Shukla


नोबेल पुरस्कार  विजेता श्री कैलाश सत्यार्थी जी के साथ बाल आश्रम जय पर भारत में 

Forfatterkafe feirer Nobelprisen i dag på Veitvetsenter i Oslo kl. 17:00:
आज शनिवार १२ दिसंबर को शाम पांच बजे नोबेल पुरस्कार पर लेखक गोष्ठी वाइतवेत सेंटर ओस्लो में.: मई ब्रित और एडवर्ड मूसेर, कैलाश सत्यार्थी और मलाला यूसुफजई को नोबेल पुरस्कार की पहली वर्षगाँठ और ट्यूनीशिया को शांति नोबेल पुरस्कार २०१५ मिलने पर चर्चा और कविता पाठ. निशुल्क प्रवेश। 
For år da Norge India og Pakistanske borgere fikk Nobelpris i 2014. Kailash Satyarthi ji og Malala fikk pris i fred mens Norges May Britt og Edward Moser fikk Nobelpris i Medisin. Og dette år fikk Tunisias Kvartalet fikk Nobels freds pris. Vi markerer alle på forfatterkafe i dag på Stikk Innom på Veitvetsenter i Oslo.

शुक्रवार, 11 दिसंबर 2015

Nobel Fredspris 2015- Suresh Chandra Shukla

शान्ति का नोबेल पुरस्कार-२०१५  ट्यूनेशिया के कवार्टरेट को  



Jeg hilste på Abbasi etter prisutdelingen utenfor Grand hotell. 
नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने के बाद श्री अब्बासी को बधाई देते हुए. लाल ध्वज टयनेशिया का है. ट्यूनेशिया उत्तरी अफ्रीका में बसा छोटा देश है. 

मशाल जुलुस के बाद ग्रैंड होटल के बाहर बालकनी में खड़े होकर शाम  सात बजे जनता को दर्शन देते हुए नोबेल विजेता

Noen bilder fra Arbeider parti møte på Det Norske Teatret i Oslo den 10. des. 2015.
अरबाइदर पार्टी (नार्वेजीय लेबर पार्टी) ने दे नॉर्स्के थिएटर में चुनाव जीतने की पार्टी दी मैंने राइमोंड  को बधायी दी.





रविवार, 6 दिसंबर 2015

स्पाइल-दर्पण का अंक 4 -2015 Speil-4 2004 Et flerkulturelt magasin på norsk og hindi.



नया अंक आपके हाथों में है. आशा है कि आपको यह अंक पसंद आयेगा।
नार्वे से गत 27 वर्षों से लगातार विदेशों में हिन्दी के प्रचार-प्रसार में अग्रसर है. 
आप को यह अंक कैसा लगा अपने विचार व्यक्त करें!

https://drive.google.com/file/d/0B-Yr4tfxYfDnbGJTUVlydDJZTzRxNlNqWXU2a0V3N0hpYTdR/view?usp=sharing




मेरी पहली किताब My first collection of poetry 'Vedna' 'वेदना' (Pain) - 40 years by Suresh Chandra Shukla

मेरी पहली किताब 

'वेदना' के प्रकाशन के चालीस वर्ष 

चालीस वर्ष पहले मेरा पहला काव्य संग्रह १९७५ में छपने के लिए तैयार हुआ और कमल प्रिंटर्स मॉडल हाउस लखनऊ से छपा! 
श्री अशोक घोष जी प्रेस के समीप ही रहते थे. उस समय इंटरमीडिएट डी ए वी इंटर कालेज से  किया था. रेलवे में श्रमिक पद पर कार्य करते हुए यह संग्रह पुर्चिओं कागज़ के टुकड़ों पर और सिगरेट के कवर में लिखकर सवांरा और तब संग्रह तैयार हुआ. सवारी माल डिब्बे में काम करते हुए विचार आते थे तो जो भी कागज़ मिल जाता उसपर लिख लिया करता था और खाना खाने की छुट्टी में एक घंटा रेलवे के पुस्तकालय में साहित्यिक पत्रिकायें पढता था. 
बारहवीं कक्षा में मेरे अध्यापकों श्री त्रिवेदी जी, श्री रमेश अवस्थी जी और श्री दिनेश मिश्रा जी मुझे स्नेह देते थे. पुस्तक छापने के बाद श्री उमादत्त द्वेदी  जी मुझे अपने घर ले गए और वह उस समय एक पत्रिका प्रकाशित करते थे. उनकी पत्नी भी एक अच्छी सांस्कृतिक अध्यापिका थीं और बाद में प्रधानाचार्य बनीं हनुमान प्रसाद रस्तोगी गर्ल्स इंटर कालेज में. वहां हनुमान प्रसाद रस्तोगी गर्ल्स इंटर कालेज में मेरे व्याख्यान अधपकों और छात्राओं के लिए हुए जिन्हे भुला पाना मेरे लिए संभव नहीं है. और इसी विद्यालय में कुछ वर्ष पूर्व एक कविसम्मेलन में मुझे मुख्य अतिथि बनाया गया था जहाँ कवियित्री श्रीमती सुमन दुबे और डॉ  अलखनंदा रस्तोगी अध्यापक हैं. इस कवि सम्मेलन में पद्मश्री सुनील जोगी मौजूद थे और सर्वेश अस्थाना जी सञ्चालन कर रहे थे. 

मंगलवार, 1 दिसंबर 2015

Speil nr. 4 - 2015 स्पाइल-दर्पण का अंक 4 -2015



हम स्पाइल-दर्पण का लिंक जोड़ने में कामयाब नहीं हुये,
जल्द ही जोड़ेंगे। धन्यवाद।
स्पाइल-दर्पण का अंक 4 -2015

नया अंक आपके हाथों में है. आशा है कि आपको यह अंक पसंद आयेगा।
नार्वे से गत 27 वर्षों से लगातार विदेशों में हिन्दी के प्रचार-प्रसार में अग्रसर है. 
आप को यह अंक कैसा लगा अपने विचार व्यक्त करें!
सुरेशचन्द्र शुक्ल, सम्पादक
ओस्लो, नार्वे 

मंगलवार, 24 नवंबर 2015

सहिष्णुता बनाम असहिष्णुता: Tolerance versus intolerance at social media-Suresh Chandra Shukla


Hei, når vi skriver på sosial media vær snill og skrive som gir andre glede. Takk. 
सहिष्णुता बनाम असहिष्णुता: 
यह चित्र ओस्लो के पत्रकारों के लिए सोशल मीडिया पर था. दोनों पत्रकार वक्ता मेरे दोनों और खड़ी-खड़ी विनम्र बीच में खड़े मेरा अभिवादन लिटरेचर हाउस, ओस्लो में कर रही हैं. धन्यवाद।Et bilde er fra et kurs om sosiale media. Begge sider på bilde er journalister er høflige mot meg som står i midten på Litteraturhuset.
मित्रों! जब हम सामजिक मीडिया में अपने विचार व्यक्त करते हैं तो वह सार्वजनिक हो जाता है. आपके गलत विरोध और पक्षधर होने से आपकी छवि उससे जोड़कर देखी जाती है. इतना ही नहीं आपको और आपके बच्चों को नौकरी और यश में उसका फर्क पड़ेगा। सार्वजनिक की हुई टिप्पणी से आपकी छवि को वह असर पड़ता है जो आपने सपने में भी नहीं सोचा होगा। कृपया आप किसी भी के विचारों पर लिखे तो भावुक होकर नहीं वरन समझदारी से लिखे ताकि जिसके लिए या विरोध में लिखा जा रहा है उससे दुबारा आँख मिलाकर बात की जा सके औए आपको उस वक्तव्य के लिए दूसरों और अपनों के सामने शर्मिन्दा न होना पड़े. आपको बात बुरी लगे तो क्षमा करें और फायदा हुआ है तो मन ही मन खुश हों और दूसरों से भी खुशहाली भरी बातें करें। सभी को कहने और सुनने का हक़ है. कोई ट्वीटर पर एक पंक्ति लिखता है हम उसपर पूरा निबंध लिखने को तैयार रहते हैं पर निबंध रोचक हो तो बात ही क्या है. धन्यवाद आपसे कुछ स्वरचित पंक्तिया साझी कर रहा हूँ जो कभी बच्चों के लिए लिखी थी.
कभी भी बोलो प्यारे बोल
दूजों के मन में रस घोल.
अपने-पराये सभी हमारे
भाईचारे का हो माहौल।।
क्या लाये क्या ले लाओगे,
आदर्श बने इतिहास भूगोल।
कड़वे में भी मीठा घोल
तभी बनोगे तुम अनमोल।।
- शरद आलोक, ओस्लो, नार्वे
यह चित्र ओस्लो के पत्रकारों के लिए सोशल मीडिया पर था. दोनों पत्रकार वक्ता मेरे दोनों और खड़ी-खड़ी विनम्र बीच में खड़े मेरा अभिवादन लिटरेचर हाउस, ओस्लो में कर रही हैं. धन्यवाद।
Et bilde er fra et kurs om sosiale media. Begge sider på bilde er journalister er høflige mot meg som står i midten på Litteraturhuset.

Speil 2015 - 4 utgitt fra Oslo. अंक 4 -2015 स्पाइल-दर्पण

अंक 4 -2015 स्पाइल-दर्पण
ओस्लो, नार्वे से गत 27 वर्षों से प्रकाशित

https://drive.google.com/open?id=0B-Yr4tfxYfDnbGJTUVlydDJZTzRxNlNqWXU2a0V3N0hpYTdR


https://drive.google.com/drive/my-drive

सोमवार, 23 नवंबर 2015

memories fron First Oslo International poetry festival-Suresh Chandra Shukla

पुरानी  यादें: अमृता प्रीतम, अहमद फराज और आक्ताविओ पाश के साथ

Hei, venner. Et bilde er fra Den første Oslo poesifestivalen i 1985. प्रिय मित्रों! आक्तावियो पाश,  अहमद फराज और अमृता प्रीतम के साथ कुछ पुरानी यादें  ताजा कर रहा हूँ. सन 1985 की बात है. नार्वे में ओस्लो अंतर्राष्ट्रीय कविता महोत्सव ( ओस्लो इंटरनेशनल पोएट्री फेस्टिवल) में पंजाबी भाषा की यशस्वी लेखक अमृता प्रीतम और उर्दू के मशहूर शायर अहमद फराज, साहित्य में नोबेल पुरस्कार प्राप्त आक्तावियो पाश के साथ मैंने भी अपनी कवितायें पढ़ीं थी. तीन दिन के इस कार्यक्रम में हम लोग काफी समय साथ-साथ रहे. अमृता जी, अहमद फराज और मैं सिगरेट पीते साथ-साथ शाम पार्टियों में खाते - पीते और कवितायें गुनगुनाते।  पहले सिगरेट पीता था पर बाद में छोड़ दिया था. ब्रिटेन में शरणार्थी की तरह रह रहे अहमद फराज ने उस समय मुझे एक अपनी कविता की पुस्तक दी थी जो उर्दू और अंगरेजी में थी.
हमारे राजदूत कमल नयन बक्शी जी को भुला पाना आसान नहीं है. वह अक्सर निजी पार्टियों में मुझे अपने निवास पर बुलाते और यदि मेरे उचित कपड़े न पहने होने पर मुझे सलाह देकर अपने कपड़े पार्टी के समय पहनने देते थे. देखिये ऐसे भी राजदूत होते हैं कमल नयन बक्शी जी और निरुपम सेन जी की तरह.
चित्र में बाएं से स्वयं मैं, आक्तावियो पाश,  अहमद फराज और अमृता प्रीतम गले मिल रहे हैं.

På bilde fra venstre er Suresh Chandra Shukla, Oktavia Paz, Ahmad Faraz og Amrita Pritam i Den første poesifestivalen i 1985 i Oslo.

बुधवार, 18 नवंबर 2015

Indira Gandhi-Suresh Chandra Shukla and Kåre Willoch in Oslo, Norway.


बंधुवर! श्रीमती इंदिरा गांधी जी का कल जन्मदिन हैI morgen 19 .november Indias kvinnelig statsminister Indira Gandhis 98. fødselsdag. 
Hun var født 19. september 1917 i Allahabad i India. भारत की शक्तिशाली महिला प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी जी का कल जन्मदिन है.
अटल बिहारी बाजपेयी जी ने इंदिरा जी को दुर्गा कहकर सम्बोधित किया था. वह जनता की सर्वाधिक लोकप्रिय नेता थी
पहली बार उनसे मुलाक़ात हुई थी लखनऊ में एयरपोर्ट पर फिर दोबारा फूल भेंट किया था रेलवे अस्पताल, चारबाग के बाहर जब वह प्रातः लखनऊ से रायबरेली जा रही थीं. तीसरी बार नार्वे में जब वह आयी थीं.
मैं ओस्लो में हिन्दी पत्रिका परिचय के संपादक मंडल का सदस्य था. चित्र में बाएं से स्वयं मैं (सुरेशचन्द्र शुक्ल, तत्कालीन भारत की प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी और नार्वे के तत्कालीन प्रधानमंत्री कोरे विलोक, ओस्लो में.

सोमवार, 16 नवंबर 2015

Intervue with Suresh Chandra Shukla मेरा एक साक्षात्कार- शेष नारायण सिंह

दिल्ली से नेट पर प्रकाशित पत्रिका हस्तक्षेप को अमलेन्दु उपाध्याय जी सम्पादित करते हैं.
देशबन्धु समाचार पत्र में में राजनैतक संपादक शेष नारायण सिंह जी ने मेरा एक साक्षात्कार लिया था जो यहाँ प्रस्तुत है:


ओस्लो के नव निर्वाचित मेयर और डिप्टी मेयर क्रमश: बाएं डिप्टी मेयर गुणरत्नम् और दायें मेयर मारिआने बोरगेन और बीच में स्वयं मैं (सुरेशचन्द्र शुक्ल)

सुरेशचंद्र शुक्ल साकिन लखनऊ,हाल मुकाम ओस्लो की जेहादे-ज़िन्दगानी की शमशीरें 

शेष नारायण सिंह

लिंक नीचे दिया है:



http://www.hastakshep.com/hindi-news/%E0%A4%B6%E0%A4%96%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%A4/2013/08/25/%E0%A4%B8%E0%A5%81%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%B6-%E0%A4%9A%E0%A4%82%E0%A4%A6%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%B6%E0%A5%81%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B2-%E0%A4%93%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%B2%E0%A5%8B#.UhmIntIwcns


रविवार, 15 नवंबर 2015

Nehru celebrated at Oslo ओस्लो में मनी नेहरू जयन्ती- Suresh Chandra Shukla

ओस्लो में मनी नेहरू जयन्ती 



भारतीय-नार्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम की ओर से वाइतवेत सेन्टर, ओस्लो में भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू जी की जयन्ती मनाई गयी.
अंत में कवि गोष्ठी संपन्न हुई जिसमें इंगेर मारिये लिल्लेएंगेन, राज कुमार, प्रवीण गुप्त, अलका भरत, दीपा रतौड़ी और सुरेशचन्द्र शुक्ल ने अपनी कवितायें और गीत सुनाये।  कार्यक्रम में पेरिस में हुए आतंकी हमले की निंदा की गयी और एक मिनट मौन रखकर मरने वालों को श्रद्धांजलि दी गयी.

१४ नवम्बर १८८९ को इलाहाबाद में हुआ था और मृत्यु २७ मई १९६४ को दिल्ली में हुई थी. वह बच्चों से बहुत प्यार करते थे. उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में भी मनाया जाता है. 
१५ अगस्त १९४७ से २७ मई १९६४ तक जवाहर लाल नेहरू जी भारत के प्रधानमंत्री पद पर कार्य करते रहे. 

शनिवार, 14 नवंबर 2015

Nehruji celebrated: Writer Cafe in Oslo today at: Stikk Innom Veitvetsenter at 5PM, Welcome लेखक गोष्ठी है शाम पांच बजे, आप आमंत्रित हैं.-Suresh Chandra Shukla

ओस्लो में आज लेखक गोष्ठी  

शाम पांच बजे, आप आमंत्रित हैं.
भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू जी के जन्मदिन १४ नवम्बर पर. 

आज शनिवार लेखक गोष्ठी है शाम पांच बजे (भारत के रात साढ़े नौ बजे)
 स्थान : Stikk Innom, Veitvetsenter, Oslo  

संयोजक 
सुरेशचन्द्र शुक्ल 
भारतीय -नार्वेजीय सूचना एवं सांस्कृतिक फोरम 
Post Box 31, Veitvet
0518-Oslo
Norway

सोमवार, 9 नवंबर 2015

PRIDE OF THE NATION AWARDS" - "राष्ट्रीय गौरव सम्मान" -Suresh Chandra Shukla

INVITATION

PRIDE OF THE NATION AWARDS  राष्ट्रीय गौरव सम्मान

रवीन्द्रालय ऑडिटोरियम, चारबाग़, लखनऊ मे

15 नवंबर 2015 दिन रविवार , सांय- 3:30 बजे,

15 नवंबर 2015 दिन रविवार , सांय- 3:30 बजे, "PRIDE OF THE NATION AWARDS" - "राष्ट्रीय गौरव सम्मान" समारोह मे रवीन्द्रालय ऑडिटोरियम, चारबाग़, लखनऊ मे आप सभी सादर आमंत्रित है ! ...
आयोजन समिति द्वारा प्राप्त प्रोफाइल्स मे से निम्न अवार्डीस का सम्मानित किये जाने हेतु चयन किया है...
सभी अवार्डीस को हार्दिक बधाई...
नवीन शुक्ला, सचिव,
आयोजन समिति,  राष्ट्रीय गौरव सम्मान

चयनित अवार्डीस की सूची

1- अनुभव चक-कानपुर 
2- अनुराग अवस्थी-दिल्ली
3- अरबिंद सिंह-दिल्ली
4- आरिफ बेग-उन्नाव
5- आशा पाण्डेय ओझा-राजस्थान
6- आशीष जौहरी-कानपुर
7- अतुल मिश्र-चंदौसी
8- बबली वशिष्ठ-दिल्ली
9- भावना शर्मा-दिल्ली
10- भुवनेश सिंघल-गाजियाबाद
11- डॉ. जागृति सिंह-कानपुर
12- डॉ.महेंद्र चौधरी-कानपुर
13- डॉ. मानवेन्द्र प्रताप सिंह-गोरखपुर
14- श्रीमथी केसन-चेन्नई
15- डॉ विनीता कपूर-दिल्ली
16- डॉ.विनीता थवानी-कानपुर
17- गौरव वशिष्ठ-दिल्ली
18- जीतेन्द्र चतुर्वेदी-बहराइच
19- जॉली अंकल-दिल्ली
20- कादम्बिनी पाठक-नोएडा
21- कमला सिंह-दिल्ली
22- मीना चौबे-बनारस
23- मीता राय-दिल्ली
24- पूजा श्रीवास्तव-लखनऊ
* 25- पूनम प्रकाश शुक्ला-मुम्बई *
26- रचना श्रीवास्तव-इलाहाबाद
27- राजन सुमन-अम्बेडकर नगर
28- राजकुमार जैन-राजस्थान
29- राजेश प्रभाकर-मुम्बई
30- रमेश चंद्र शर्मा-झारखण्ड
31- रंजना श्रीवास्तव-कानपुर
32- सलमा मेमोन-मुम्बई
* 33- संदीप शुक्ला, लखनऊ *
34- संजीबा -कानपुर
35- सपना मांगलिक-आगरा
36- सविता वर्मा-मुजफ्फरनगर
37- एस.एन.मौर्य-फैज़ाबाद
38- सुमन द्विवेदी-फैज़ाबाद
39- सुनील चोपड़ा-दिल्ली
40- सुरभि सप्रू-दिल्ली
* 41- सुरेश चंद्र शुक्ल-नार्वे/लखनऊ *
42- विमलेश निगम-लखनऊ
43- विम्मी पूरी -दिल्ली
44- विपनेश माथुर-दिल्ली
45- डा.नरेंद्र कुमार पाण्डेय-इलाहाबाद
* ( संशोधित सूची ) *

शनिवार, 7 नवंबर 2015

Cow's sake गाय के वास्ते (short story from Norway) - सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' by Suresh Chandra Shukla, Oslo

गाय के वास्ते (लघुकथा )

सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक', ओस्लो, नार्वे से  



सड़क के एक ओर मंदिर है और दूसरी ओर मस्जिद है।  सड़क के एक किनारे सब्जी की दूकान है और वहां लोग जमा हो रहे हैं. चारो तरह हाहाकार मचा हुआ है. भीड़ अनवरत बढ़ती जा रही है. लोग आश्चर्यचकित  हैं कि आखिर क्या हो गया है. सभी जानना चाहते हैं भीड़ क्यों लग रही है. आने-जाने वाले आपस में संवाद करने की जगह खुद अपनी आँखों से देखना चाहते हैं आखिर क्या हुआ है ताजा समाचार जानने की होड़ में सभी खोजी पत्रकार बनने के चक्कर में  हैं. 
सब्जी की दूकान के अलावा मंदिर और मस्जिद की तरफ भी लोग अलग-अलग समूह में जमा हो रहे हैं, बिना यह जाने हुए कि आखिर क्या बात है? सड़क पर हमेशा एक साथ चलने वाले लोग मंदिर और मस्जिद के नाम पर दोनों ओर  भी जमा हो रहे हैं,  जैसे पतंगबाजी के दो समूह। पर ये पतंगबाजी वाले लोग नहीं वरन आस्थावान हैं.  आज असल से ज्यादा दिखावा का जमाना है भले ही ढोल में पोल हो, बस ढोल बजना चाहिये। 
मैंने सोचा मैं ही क्यों दूर रहूँ भीड़ से और जानूँ कि आखिर माजरा क्या है?
पास में जाकर देखा तो एक बहुत दुबली -पतली गाय सब्जी के दूकान के आगे अधमरी हालत में पड़ी है. लोगों ने सब्जी वाले को पकड़ रखा है. 
'तुमने गाय की जान ले ली.'
'साहब मैंने जान नहीं ली. गाय मेरी सब्जी पर जैसे ही टूट पड़ी तो मैंने उसे डंडे से भगाना चाहा और डंडे को सड़क पर जोर-जोर से पटका तो वह गाय घूम कर भागना चाहती थी और मुड़ते ही जमीन पर वह गिर पढ़ी.'
'तुम्हें गोहत्या का पाप चढ़ेगा, जानते हो, 'एक ने कहा.
'साहब यह अभी मरी नहीं है, देखिये उसकी आँखे खुली हैं और हाफ रही है.'
'थोड़ी सब्जी खा लेती तो क्या हो जाता?' भीड़ में खड़े दूसरे व्यक्ति ने प्रश्नचिन्ह लगाया।
'साहेब अभी हमारी बोनी तक नहीं हुई. बची-खुची सब्जियां और पत्ते इन्हीं जानवरों को तो ही खिलाते हैं दूकान बंद करने के पहले। 
उस सब्जी वाले ने आगे कहना शुरू किया, 'यह गाय पहले कभी नहीं दिखी बाबूजी! आप रुकिए हम अभी गाय को पानी पिलाते हैं!'
 उसने सब्जियों पर छिड़कने वाला पानी गाय के मुख में देना शुरू किया, गाय हरकत में आने लगी. गाय के मुख से जबान मुख के ऊपर फिरने लगी.
'भीषण गर्मी की वजह से गाय बहुत प्यासी है, बाबूजी! देखो सूख कर दुबली हो गयी है. इसे पानी, भोजन और आराम की जरूरत है.' सब्जी वाले ने गीले टाट को गाय पर ओढ़ा दिया था.  
सब्जी वाले ने गौर से देखा उसे लगा कि गाय को इलाज की जरूरत है.
मैंने भी बीच में कहा, '
'शायद तुम ठीक कहते हो, गाय को इलाज की जरूरत है.' मैंने सब्जी वाले की तरफ देखते हुए  सोचा कि कुछ पुण्य-कार्य हो जाये और लगे हाथ सलाह दे डाली, 
'भाइयों इसके इलाज के लिए चन्दा एकत्र करते हैं. और एक पशु-चिकित्सक को यहाँ बुलाते हैं. गाय इलाज से ठीक हो जाएगी और पुण्य भी मिलेगा।'
मैंने अपना गमछा गाय के बगल में बिछा दिया और लोगों से अपील करने लगा,
'गाय के इलाज के लिए कुछ दे दो'. गाय के वास्ते कुछ दे दो. 
पहले लोग कुछ रुके, कुछ ने अपनी साड़ी और जेब से कुछ सिक्की फेके और चल दिये। जो भीड़ में खड़े थे उनमें कुछ बिना पैसे दिए ही लोग लौट गये. 
धीरे-धीरे भीड़ छटने लगी. जब मंदिर और मस्जिद की तरफ देखा तो इक्का -दुक्का लोग ही सुनकर आये और सिक्के डालकर चलते बने. जून का महीना था. शाम होने लगी थी . 
आने जाने वालों के मोटरसाइकिल, रिक्शे, साईकिल की घंटियों की आवाज के बीच आवाज गूँज रही थी 
कुछ पैसे  गमछे में और कुछ बाहर बिखरे पड़े थे. वातावरण में आवाज गूँज रही थी,
'गाय के वास्ते। गाय के वास्ते।' 
E-mail:

Cow's sake (short story) 

By Suresh Chandra Shukla Oslo, Norway 

One side of the road is tempel and the other side of the street is a mosque . Vegetable shop and there is a side of the road people are gathering. Such is the cry around. Congestion is increasing constantly. What the hell is that people are surprised. Want to know why you look crowded. Commuters to communicate among themselves rather want to see with their own eyes what has happened to know the latest news in the race to become the investigative journalist are staggering.In addition to vegetable shop side of the temple and the mosque, people are gathering in different groups, without knowing what the hell is that? People on the street, always walk together in the name of temple and mosque are gathering both sides, the two groups such as kite flying. The kite flying and not on those who are faithful. Actually, even if today is the age of the formal drum pole, just drums should jiggle.I wondered why I stay away from the crowd and know exactly what's wrong?So I went and looked at the vegetable shop next to a very thin thin cow is lying in Admri condition. People who's holding the vegetable."You took the life of the cow.""Sir, I did not know. As soon as I had broken my vegetable cow on a stick and tried to shoo poles knocked loudly on the street if he wanted to flee, and turn around the cow on the ground, he read down. ""You will ascend into the sin of cow slaughter, you know," said one."Sir, it is not dead yet, see his eyes were open and half.""So what is eat a vegetable?" Another person in the crowd standing into question.'Saheb was not just our Bonnie. If these animals surviving fragments vegetables and leaves before closing the feed store.The minister said that the vegetable began, "This cow never seen before Papa! You just wait, we are taken to drink cow! ' He sprinkled on vegetables with cow's mouth began to water, the cow came into action. Home from Home of cow tongue was moving up."Cow very thirsty because of the heat, Father! Slim look has dried. Water, food and comfort needs. " The cow was covered on the wet sackcloth vegetable.She looked carefully at the vegetable that cow needs treatment.I also said in the middle, ""Maybe you're right, the cow needs to be treated." I have given thought to the vegetable that has some merit and should be working hand-advised,'Brothers collect fruit for its treatment. And call a veterinarian here. Cow treatment will recover, and virtue would be. "I laid next to his Gamchha cow and began to appeal to the people,"Give some to treat the cow. ' Give something for the sake of the cow.Those first few stayed, and some of her pocket and walked some Siki Feke. Some of those who stood in the crowd and returned without having to pay people.Ctne crowd began slowly. Ace looked at the shrine and mosque -dukka hear people come and put coins became due. June was the month. The evening had started.Commuters motorcycles, rickshaws, bicycle bells ringing voice was the voice ofScarves out of some money and some were scattered. The voice was echoing in the atmosphere,"In order to cow. Cow's sake. "

बुधवार, 4 नवंबर 2015

A poem about Copenhegan (Denmark) by Suresh Chandra Shukla



नमस्कार!  A poem about Copenhegan (Denmark) by Suresh Chandra Shukla

Photo from Worls hindi Conference held in Bhopal in India in 2015.
चित्र में बाएं से लखनऊ के दाऊद जी गुप्ता, प्रो योगेन्द्र प्रताप सिंह, स्वयं मैं (सुरेशचन्द्र शुक्ल), महामहिम केशरी नाथ त्रिपाठी, एक लेखिका, प्रो  राम प्रसाद भट्ट और प्रो शोभा बाजपेयी ( के के वी डिग्री कालेज यानी कि लखनऊ  में बप्पा श्रीनारायण वोकेशनल डिग्री कालेज में अंगरेजी की विभागाध्यक्ष).    

यही है भैया कोपेनहेगन 
सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक'


Photo from Worls hindi Conference held in Bhopal in India in 2015.
यहाँ जो चित्र दिया है वह विश्व हिन्दी सम्मलेन भोपाल का है.    

बेघर जहाँ मनाते उत्सव
चारो ओर हैं बंदरगाह
दूध की नदियाँ बही जहाँ
नाचे गायें सब परिवार।
धेनुमार्ग हैसच्चा आँगन!
यही है भैया कोपेनहेगन!!
पर्यटकों की धूम जहाँ है,
फुटपातों पर लगती फेरी!
फुर्सत में पी मदिरा प्याले,
तनावों से कर लेती दूरी!!
संकोचों के टूटे बंधन!
यही है भैया कोपेनहेगन!!

नाविक का संसार जहाँ है,
सागर जीवन मान जहाँ है
सब को कहने की आजादी,
हर एक का सम्मान जहाँ है,
जहाँ प्रेम ज्यों थाली-बैगन! 
यही है भैया कोपेनहेगन!!
कथा की मनहर  कथायें,
जिनपर करती गर्व हवायें!
उपेक्षित लेखक की  गाथायें,
अब सभी प्रशंसा गाथा गायें!!
जहाँ सबके एच सी अन्दर्सन!
यही है भैया कोपेनहेगन!!  

शनिवार, 31 अक्तूबर 2015

Seminar regarding Patels (First homeminister of India) birthday at Lucknow India ..Suresh Chandra Shukla

Et seminar-bilde fra Babasaheb Amedkar Univiersit i Lucknow i India. 
आज बाबासाहेब अम्बेडकर विश्वविद्यालय में एक सेमीनार में  हिस्सा लिया और कल दिल्ली में दलित साहित्य पर पुस्तक मेले जे एन यू , नयी दिल्ली में होंगे।


रविवार, 25 अक्तूबर 2015

threatened to Chetana Thirthahalli is against humanaity-Suresh Chandra Shukla

फिल्मकार-लेखिका चेतना थ्रिताहिल्ली को धमकी मानवता के विरुध है
- सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक'


ओस्लो में लेखक गोष्ठी में संयुक्त राष्ट्र दिवस मनाया गया.  कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र दिवस पर वक्तव्य देते हुए सुरेशचन्द्र शुक्ल ने कहा कि हम सभी को दुनिया में भाईचारा के लिए कार्य करना चाहिए।  सभी से प्यार से बात करनी चाहिए और दूसरों की इज्जत करनी चहिये चाहे वह नौकर है, अधिकारी है, बच्चा है बड़ा है किसी भी देश या धर्म का है. आज के दिन का यही महत्त्व है कि सभी की इज्जत करें। और किसी के भड़काने प् न आयें चाहे हमें कोई गाली दे. 
फेसबुक से पता चला और इन्डिया टाइम्स में पढ़ा कि  हिन्दुओं के नाम पर गुंडों की इतनी हिम्मत बढ़ गयी है कि लेखिका और फिल्मकार चेतना थ्रिताहिल्ली को बलात्कार करने और तेज़ाब डालने की धमकी दी है. इस धमकी का कठोर सजा से और जनता में जागरण से निपटा जाये।
यह बहुत ही शर्मनाक और  धिक्कारने वाली बात है. मैं इसकी निंदा करता हूँ।  हमारी प्रतिभावान युवा फिल्मकार चेतना थ्रिताहिल्ली Chetana Thirthahalli को ऐसी गंभीर धमकी दी है.  इसके लिए समाज में जागरण की जरूरत है. 
  सरकार नहीं, यह बतायें हम क्या कर रहे हैं, सरकार नहीं।  क्या समाज में जागरण के लिए स्कूलों और मोहल्लों में मानवाधिकार, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए जागृत करना चाहिये। यह हमारी सोच का परिणाम है, औरत को कमतर समझते हैं. कट्टरता को बढ़ावा देते हैं, शायद इसी लिए और यह कार्य घर से शुरू होना चाहिये। हम सभी नागरिकों का दायित्व है कि किसी के बहकाने में न आयें जो हमको अमानवीय बातें सिखाता है.
अंगरेजी सरकार ने पराधीनता के समय  धर्म के नाम पर कभी हिन्दुओं और कभी मुस्लिमों के स्थानों पर  अनेक कृकृत्य कराये जैसे गाँवों के कुँवों में वह मांस फिकवा देना जो उस धर्म के लोग नापसंद करते हों और लोगों ने पलायन शुरू किया। उन्हें बैठे बैठाएं हमारे भड़कने और उदार ह्रदय से न सोचने के कारण लाभ उठाया।
वैसे भी दुनिया में चेतना थ्रिताहिल्ली (महिला फिल्मकार) जैसे बुद्धिजीवी बहुत कम हैं.  आप किसी के भड़काने पर न आयें चाहे वे अपने हों. मैं तो जब कन्या विद्यालयों में अपना वक्तव्य देने जाता था तो कहता था कि युवा कन्याओं आप सभी बहुत उदार, बहादुर और समझदार हो कभी किसी के भड़काने में नहीं आना और अपनी रक्षा खुद करना। अपने निर्णय खुद लेना। यदि पति के साथ भी यदि गंगा सनान करने जाना तो पति से चार कदम दूर ही स्नान करना क्योँकि यदि आपके विरोध और अनबन के कारन कहीं आपको धक्का न दे  दे और आप डूबने लगें। और आप पहले तैरना सीखना फिर गंगा स्नान करने जाना। धन्यवाद! मेरे पास उन वक्तव्यों की वीडियो-फिल्म है कभी आपके साथ भविष्य में साझा करूंगा। 

शुक्रवार, 23 अक्तूबर 2015

UN-day २४ (24) अक्टूबर को संयुक्त राष्ट्र दिवस है. हार्दिक बधायी! -Suresh Chandra Shukla

बन्धुवर! 24 अक्टूबर को संयुक्त राष्ट्र दिवस है. आप सभी को हार्दिक 

बधायी! 

Gratulerer med FN-dagen den 24. oktober.


Mobashar Banaras मोबाशिर बनारस पहले स्थानीय मेयर (2015-2019) ble valgt den første Bydels ordfører med flerkulturelt bakgrunn i Grorud i Oslo

Grorud får sin første flerkulturelle Bydels ordfører, 
Mobashar Banaras

ग्रूरुद बीदेल के स्थानीय मेयर बने चित्र में बाएं से पहले खड़े 

 (Ap) अन्य पार्टियों Rødt, De Grønne og SV के

 साथियों के साथ ग्रूरुद बीदेल, ओस्लो में २२ अक्टूबर को. (22.10.15) Oslo 



Fikk gratulasjon

På bilde fra venstre er en medllem i Bydelsstyre, Anders Røberg-Larsen (Ny byrådssekretær for byutviklings byråd) og Mobashar Banaras (Ny Bydels ordfører i Grorud) og meg (Suresh Chandra Shukla) etter Grorud bydels styre-møte.
लेखक गोष्ठी 
२४ अक्टूबर को १७:०० बजे वाइतवेट सेंटर ओस्लो में
स्वागतम


Forfatterkafe markerer FN-dagen på Veitvet
24. oktober kl. 17:00
På Stikk Innom på Veitvetsenter i Oslo
Oslo